T-24/27 मुक़ाबले में फिर से हार हो गयी पगार की-नकुल गौतम

मुक़ाबले में फिर से हार हो गयी पगार की
दिहाड़ियां ग़ुलाम हो के रह गयीं उधार की

जवान उस ग़रीब की हुई हैं जब से बेटियां
पड़ी है भारी ‘सौ लुहार की’ पे ‘इक सुनार की’

उस ऊंघती गली में दफ़अतन वो उनसे सामना
“ये दास्तान है नज़र पे रौशनी के वार की”

सज़ा में है मिली हमें ये बेवफ़ाई दोस्तो
ख़ता वफ़ा की आदतन जो हमने बार-बार की

दुआ-सलाम, हाल-चाल पूछना तो छोड़िये,
अब उनकी इक झलक भी बात है कभी-कभार की

पहाड़ छोड़ कर ज़ुबान शह्र की तो हो गयी,
है रूह में महक मगर अभी भी देवदार की

इमारतों के मौसमों में बाग़बाँ भी क्या करे?
लगा रहा है बेबसी में क़ीमतें बहार की

घड़ी भी थक के रुक चुकी है, राह भी है सो गयी
कटेगी कैसे अब ‘नकुल’ घड़ी ये इंतज़ार की

नकुल गौतम 09819057645

View original post

सपने मेरे, मुझे आजकल सोने नहीं देते

कभी मसले सियासत के, वो हल होने नहीं देते
मसल कर, जुगनुओं को तीरगी धोने नहीं देते

बरसती थीं मुहब्बत की घटायें जिन मुहल्लों में
फकीरों को गली में हाथ भी धोने नहीं देते

कभी खेला किये थे खेत में मिल जुल के जो घर-घर
वो महलों में, हबीबों को भी अब कोने नहीं देते

गुज़र जाती थीं रातें, जो कभी गाने बजाने में
(है ऐसा) ये कैसा खौफ, अब बच्चों को भी रोने नहीं देते

अजी सुन कर ये ख़बरें मुल्क के हालात की मौला
बुरे सपने मिरे अक्सर मुझे सोने नहीं देते